नोटबंदी की मार का असर IPL पर नहीं मिल रही स्पॉन्सरशिप

0
62
ipl 2017 sponsorship

आप लोगो को तो पता ही है की आईपीएल दुनिया की सबसे धनी खेल में शुमार है लेकिन आईपीएल के दसवें सीजन के लिए मामला उल्टा पड़ता दिख रहा है और फरवरी का आधा महीना बीत जाने के बावजूद अभी तक स्पॉन्सरशिप की घोषणा नहीं हुई है। इस वर्ष IPL का दसवां सीजन होगा और इसे लेकर मार्केटिंग से जुड़ी हलचल नहीं के बराबर है। अभी तक किसी बड़ी स्पॉन्सरशिप या मार्केटिंग डील की घोषणा नहीं हुई है। पिछले वर्षों में बड़ी डील्स की घोषणा फरवरी की शुरुआत से होने लगती थी।

लेकिन इस बार नोटबंदी और बीसीसीआई में  होने वाले उथल-पुथल के कारण आईपीएल की स्पॉन्सरशिप का मामला ठंडा पड़ता दिख रहा है। इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक एक ऐड एजेंसी के चेयरमैन आशीष भसीन ने कहा, ‘बीसीसीआई खुद मुश्किल में है और इसका असर आईपीएल की मार्केटिंग पर पड़ रहा है। साथ ही नोटबंदी के कारण कंपनियां खर्च को लेकर ज्यादा सतर्क हो गई हैं।’

पिछले साल आईपीएल ऐड सेल्स और स्पॉन्सरशिप से करीब 2500 करोड़ रुपये की कमाई की थी। इतना ही नहीं आईपीएल का ब्रॉडकास्टर राइट्स रखने वालाी सोनी पिक्चर्स ने भी 1100 करोड़ रुपये की कमाई की थी।

बीसीसीआई ने 2018 के बाद के लिए टेलिविजन और डिजिटल राइट्स के लिए टेंडर जारी किए हैं, जिससे उसे करीब 18 से 30 हजार करोड़ रुपये का राजस्व मिलने का अनुमान है। लेकिन लोढ़ा कमिटी द्वारा बीसीसीआई के अधिकतर पदाधिकारियों को टेंडर प्रक्रिया को आगे बढ़ाने से रोक देने के कारण इस प्रक्रिया को शुरू करने में देरी हो रही है।

अब ये देखना रोचक होगा कि क्या बीसीसीआई की सबसे कमाऊ खेल लीग IPL नोटबंदी और बीसीसीआई में मची उथल-पुथल से उबकर कितना राजस्व लाने में सफल हो पाएगा?